Monday, August 8, 2022

प्रदेश

एडिटरस नोट

‘गोदी’ कथा -1… दिग्विजयजी आपको तो कथावाचकों पर सवाल उठाने का हक़ ही नहीं !

  मिर्ची और कंप्यूटर बाबा जैसे संतों के साथ राजनीति की रणनीति बनाने वाले दिग्विजय का पंडित प्रदीप मिश्रा पर यूं सवाल उठाना पेट में...

मीडिया का सच.. पत्रकार पिता-पुत्र की पीड़ा, घर चलाना मुश्किल, काम की तलाश !

लगभग 70 साल के नचिकेता देसाई , नारायण देसाई के पुत्र और महादेव देसाई के नाती हैं। उनके दादा गांधीजी के सचिव रहे। पटेल...

पीके अध्याय-1… कारोबारी की ‘सुराज’ पदयात्रा !

मोदी, नीतीश (लाभांश के हिस्सेदार लालू ) ममता का साथ। अंत में कांग्रेस की चौखट पर जाकर विपरीत परिक्रमा का फेरा भी पूरा हुआ।...

कांग्रेस के ‘आत्मघाती’ दस्ते

  कांग्रेस का कोई माई, बाप ही नहीं दिखता। आत्मघाती नेताओं (इनमे से ज्यादातर 70 प्लस के हैं ) को कांग्रेस को शाल, श्रीफल देकर...

श्रीरामचरित और हमारा मानस

पंकज मुकाती (संपादक पॉलिटिक्सवाला ) नौ दिन तक दुर्गोत्सव की धूम रही। इसके पहले पितरों को श्रद्धांजलि। उससे पहले श्री गणेश उत्सव। यानी पिछले...

अरुणोदय पर पूर्णीविराम !

अरुण यादव में राजनीतिक चातुर्य और दूरदर्शिता दोनों ही नहीं है। वे शातिर होना चाहते होंगे, पर ये उनके बस की बात नहीं। इस...

विशेष

कांच की शीशियाँ दूसरे प्रकार का अस्त्र हैं, जिनमें कोई ज्वलनशील तैलीय पदार्थ प्रकट होता है।वे लक्ष्य निर्धारत करके प्रहार आरंभ करते हैं #विजय मनोहर तिवारी शुक्रवार की प्रार्थना सामान्य प्रार्थना नहीं है। वह परम प्रार्थना है। अत्यंत गुणकारी। तत्काल लाभप्रद। सनातन संस्कृति में कुंडलिनी जागरण की प्रक्रिया ऋषियों ने खोजी थी।...
  #विजयमनोहरतिवारी आठ साल से विट्‌ठलभाई पटेल की स्मृति में इंदौर में जलसा होता है। विट्‌ठलभाई पटेल सांस्कृतिक प्रतिष्ठान के वे समर्पित कार्यकर्ता यह करते हैं, जो मध्यप्रदेश मूल के एक बहुआयामी व्यक्तित्व से बहुत निकट जुड़े रहे थे। वे सागर के विट्‌ठलभाई पटेल थे, जिनके परिचय का दायरा सागर से मुंबई...
  हिन्दुस्तान में यह नस्लवादी हिंसक धर्मान्धता का सिलसिला खत्म होना चाहिए, वरना कुछ लोग अफगानिस्तान-पाकिस्तान के आत्मघाती दस्तों से प्रेरणा पा सकते हैं, और उस दिन देश में किसी तबके के कोई लोग सुरक्षित नहीं रह जाएंगे। सुनील कुमार (वरिष्ठ पत्रकार ) देश में यह बहस चल रही है कि किस...

देश

‘अटाला’ कौन…. यह हमारी शर्म का इम्तिहान है, कल आपकी बारी...

  यह प्रतिशोधी राजनीति आज जावेद मोहम्मद के ख़िलाफ़ अपनाई जा रही है तो उनको पराया मान कर बहुत खुश न हों, व्यवस्थाएं धीरे-धीरे आपकी...

गोरक्षा का ज़ज़्बा..डीएम की बीमार गाय की सेवा में सात डॉक्टर्स...

  आज़म खान की भैंस के बाद  डीएम की गाय देश के सभी अफसरों के लिए मिसाल है फतहेपुर उत्तरप्रदेश का ये मामला। यहाँ के डीएम...

विचार अच्छा..टीवी चैनलों की बहस में न जाएं मुस्लिम

  यहां यह भी साफ कर देना जरूरी है कि हिन्दुस्तानी समाचार चैनल जो कर रहे हैं, वह पत्रकारिता बिल्कुल नहीं है, उसका अखबारनवीसी से...

वीडियो खबरें