Sunday, July 3, 2022

अच्छे दिन की नई परिभाषा.. यही अच्छे दिन कहलाते हैं

  #विजयमनोहरतिवारी आठ साल से विट्‌ठलभाई पटेल की स्मृति में इंदौर में जलसा होता है। विट्‌ठलभाई पटेल सांस्कृतिक प्रतिष्ठान के वे समर्पित कार्यकर्ता यह करते हैं, जो मध्यप्रदेश मूल के एक बहुआयामी व्यक्तित्व से बहुत निकट...

370 के खात्मे पर सुषमा ने लिखा-मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने...

  अपने अंतिम ट्वीट में स्वराज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हार्दिक अभिनन्दन लिखा, और कश्मीर की आज़ादी को जीवन की सबसे बड़ी ख़ुशी बताया। भोपाल। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने अंतिम ट्वीट में...

बाप-भाई से खतरा,अदालत से हिफाजत मांगने में गलत क्या है?

-सुनील कुमार उत्तरप्रदेश के एक ब्राम्हण भाजपा विधायक की बेटी ने मर्जी से एक दलित लड़के से शादी की, और उसके बाद एक वीडियो बयान जारी किया कि अपने विधायक पिता से उसे और उसके...

क्या इंदिरा गांधी सचमुच में एक क्रूर तानाशाह थीं ?-

इंदिरा गांधी के आपतकाल और आज के दौर के गैर प्रजातांत्रिक तानाशाहों पर  नजर डाल रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार श्रवण गर्ग सरकार के बदलते ही ‘आपातकाल’ की पीठ को नंगा करके जिस बहादुरी के साथ...

कांग्रेस के अहंकार और मनमानी को तोड़ने वाले ‘अटल’ नेता

लगातार चुनाव जीतकर कांग्रेस में सहिष्णुता खत्म हो गई थी, नेहरू से लेकर इंदिरा तक में ये भाव था कि -मैं ही मैं कोई और नहीं, कांग्रेस ने इसी जिद के चलते कई चुनी...