मोदी सत्ता पाकर चौकीदार बने, शिवराज इस्तीफा देकर


भोपाल। प्रदेश की जनता ने हमें एक चौकीदार की भूमिका सौंपी है. हम एक सशक्त और जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाएंगे. हम प्रदेश के हित में रचनात्मक सहयोग करेंगे, तो गड़बड़ी दिखने पर प्रखर विरोध भी करेंगे. कांग्रेस पार्टी ने अपने वचनपत्र में जनता को वचन दिए हैं, उन्हें पूरा करे. राहुल गांधी जी ने दस दिनों में किसानों का कर्ज माफ करने की जो बात कही है, मैं ऐसा मानता हूं कि वे अपने इस वचन को भी पूरा करेंगे. क्योंकि उन्होंने स्वयं ही कहा है कि जो मुख्यमंत्री दस दिन के भीतर किसानों का कर्ज माफ नही करेगा, उसे बदल दिया जाएगा.
यह बात कार्यवाहक मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कही. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार से अपेक्षा है कि हमारी सरकार ने जनता के हित में जो योजनाएं और परियोजनाएं शुरू की हैं, उनकी निरंतरता बनी रहे. लोकतंत्र में व्यक्ति बदलते रहते हैं, लेकिन जन कल्याण की योजनाएं चालू रहनी चाहिए. प्रदेश के किसानों को उनके पसीने की पूरी कीमत मिलती रहे.
चौहान ने कहा कि हमारी सरकार ने जब सत्ता संभाली थी, तो हमें एक बदहाल प्रदेश मिला था. हमने उसे विकसित प्रदेश बनाने का काम किया. समाज के विभिन्न वर्गों के लिए विशेषीकृत योजनाएं शुरू कीं. हमारी सरकार की नींव उमाजी ने रखी थी और बाबूलाल गौर ने उसे आगे बढ़ाया. तेरह साल मैंने अपनी पूरी क्षमता से जनता की सेवा करने की कोशिश की है. फिर भी यदि कोई कमी रह गई हो, तो उसके लिए क्षमा चाहता हूं. चौहान ने कहा कि मैंने एक मुख्यमंत्री के रूप में नहीं, बल्कि परिवार के सदस्य के तौर पर सरकार चलाने की कोशिश है. फिर भी मेरे व्यवहार से,किसी काम से, बोलचाल से किसी को कष्ट हुआ हो, तो मैं क्षमा चाहता हूं.


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments