दिग्विजय जी, सैनिकों की शहादत को दुर्घटना बताने वालों की भी नहीं है दुनिया को जरुरत


इंदौर. कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह को निरापद रहना सुहाता नहीं। वे हमेशा कुछ ऐसा करने की फ़िराक में रहते हैं कि सबके केंद्र में वहीं रहे। टीवी चैनल के पत्रकारों के लिए तो वे मुंहमांगी मुराद है। पुलवामा हमले पर वे बोले, पूरा दिन चैनल्स पर ब्रेकिंग, बड़ी खबर बने रहे। आज वे राहुल गांधी के ट्वीट को आगे बढ़ा गए। अब वे राहुल गांधी से आगे हैं। आखिर दिग्विजय जो हैं। उनका कहना था कि मोदी भी हिटलर की तरह है, और ऐसे लोगों की दुनिया को जरुरत नहीं है। इसके जवाब में ट्वीटर पर कमेंट आ रहे है -दिगिवजय जी सैनिकों की शहादत को दुर्घटना बताने वालों की भी नहीं है दुनिया को जरुरत।

मालूम हो कि. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना एडोल्फ हिटलर और बेनिटो मुसोलिनी जैसे तानाशाहों से की है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि दुनिया को ‘इस तरह’ के नेताओं की कोई जरूरत नहीं है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा है, ‘मैं राहुल जी से पूरी तरह सहमत हूं. दुनिया को प्रेम और शांति की जरूरत है। सनातन समय से जिसका संदेश गौतम और महावीर ने दिया है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘दुनिया को महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग जैसे नेताओं की जरूरत है जिन्होंने सत्य और अहिंसा का संदेश दिया।
इससे पहले इसी शुक्रवार को न्यूजीलैंड में एक मस्जिद के बाहर हुई गोलीबारी की घटना पर राहुल गांधी ने एक ट्वीट के जरिये शोक जाहिर किया था। साथ ही घटना की निंदा करते हुए यह भी कहा था कि दुनिया को कट्टरता और नफरत से भरे चरमपंथ के बजाय दया और समझ की जरूरत है। उसी ट्वीट में राहुल गांधी ने गोलीबारी में घायल हुए लोगों के जल्द स्वस्थ होने की कामना भी की थी।

जर्मनी के एडोल्फ हिटलर व इटली के बेनिटो मुसोलिनी जैसे तानाशाहों को द्वितीय विश्वयुद्ध शुरू करने के लिए भी जिम्मेदार ठहराया जाता है। साल 1939 से शुरू होकर 1945 तक चले उस विश्वयुद्ध में जान और माल का भारी नुकसान हुआ था। इधर कांग्रेस के कई नेताओं की तरफ से पहले भी नरेंद्र मोदी की उन तानाशाहों के साथ तुलना की जा चुकी है।


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments