गद्दार सिर्फ राजनीति में ही नहीं होते .. पंजाब ज्वेलर्स ने 17 लाख में हीरे के बदले दे दिए कांच के टुकड़े


17 लाख में हीरे के बदले दे दिए कांच के टुकड़ेपंजाब ज्वेलर्स से हीरे खरीदने वाले कारोबारी ने मुंबई और दिल्ली की लैब में टेस्ट करवाए तो वे कांच के टुकड़े निकले, पुलिस ने मालिक दर्पण आनंद पर दर्ज किया केस

इंदौर। गद्दार सिर्फ राजनीति में ही नहीं होते। हीरे के कारोबारी भी गद्दारी करते हैं। इंदौर के नामी पंजाब ज्वैलर्स ने भोपाल में एक कारोबारी को हीरे के बदले कांच के टुकड़े दे दिए। कारोबारी ने 17 लाख के हीरे ख़रीदे थे। जब इनकी दूसरे ज्वैलर्स के यहां जांच कराई तो ये कांच के टुकड़े निकले। करोबारी ने भोपाल में पंजाब ज्वैलर्स के दर्पण आनंद के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

कारोबारी के अनुसार उसने ज्वैलर्स से हीरे की अंगुठी और टॉप्स खरीदे थे। जो जांच कराने पर कांच के टुकड़े निकले। मामले में भोपाल पुलिस ने पंजाब ज्वैलर्स के दर्पण आनंद के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। जानकारी के मुबाटिक होर्डिंग कारोबारी सैयद तारिक अली कोहेफिजा क्षेत्र में रहते हैं। उन्होंने 8 जून 2014 को भोपाल के मालवीय नगर स्थित पंजाब ज्वैलर्स से पत्नी के लिए टॉप्स और अंगुठी खरीदी थी। जिसमें हीरे जड़े थे।

टॉप्स में 9 लाख के हीरे थे जबकि अंगुठी में 7 लाख के। दोनों की कुल कीमत 17.45 लाख थी। वर्ष 2018 में दूसरे ज्वैलर्स के पास इन हीरों की जांच कराई। पता चला यह हीरे नहीं, कांच के टुकड़े हैं।

पंजाब ज्वैलर्स के नाम को देखते हुए उन्होंने भोपाल और मुंबई की लैब में अलग-अलग जांच कराइ्र। दोनों की रिपोर्ट में कांच के टुकड़े होने की पुष्टि हुई। इसके बाद तारिक अली ने पुलिस को शिकायत की। अरेरा पुलिस ने गुरुवार देर रात ज्वैलर संचालक दर्पण आनंद और मैनेजर राजेश चोपड़ा के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर लिया।

पुलिस ने भी खूब उलझाया
मामले की शिकायत पीड़ित ने तभी कर दी थी जब मुंबई-भोपाल की रिपोर्ट आई थी। पुलिस, एसटीएफ से लेकर ईओडब्ल्यू तक शिकायत गई। जांच के नाम पर पुलिस टाइम पास करती रही। अंतत: गुरुवार को केस दर्ज हुआ।

पहले हीरे बदलने का कहा, फिर बदल गए

पंजाब ज्वेलर्स के लिए होर्डिंग बनाए थे। पेमेंट नहीं हुआ तो मैंने रिंग और टॉप्स बनवाए। पांच साल तक हीरे घर में थे कभी ध्यान नहीं दिया। दूसरे जेवर बनवाने के लिए चेक करवाया था। तो नकली निकले। ढाई साल पहले आनंद और मैनेजर चोपड़ा को मैंने मामला बता दिया। पहले उन्होंने हीरे बदलने का आश्वासन दिया। बाद में पलट गए।

हैदराबाद लैब में होगी हीरों की जांच
पंजाब ज्वैलर्स के खिलाफ धारा 420, 468 और 471 के तहत प्रकरण (127/20) दर्ज हुआ है। चूंकि केस दर्ज हो चुका है इसीलिए ज्वैलरी की जांच हैदराबाद स्थित सरकारी लैब में होगी।

आर.के.सिंह, प्रभारी
अरेरा हिल्स थाना


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments