क्या तोगड़िया की जान की दुश्मन अयोध्या वाली किताब है ?


विहिप नेता प्रवीण तोगड़िया का अपहरण और अब उनकी गाड़ी की
ट्रक से टक्कर, क्या हिन्दू राजनेताओं की पोल खोलेंगे तोगड़िया

भोपाल. विश्व हिन्दू परिषद् के प्रवीण तोगड़िया इन दिनों खतरे में हैं. ऐसा वे खुद कई बार कह चुके हैं. जनवरी में वे अचानक लापता हुए फिर सड़क पर बेहोश मिले. पिछ ले सप्ताह उनकी गाड़ी को ट्रक ने टक्कर मार दी. वे बाल-बाल बचे. ये हादसा है या साज़िश. ये तो वक्त बताएगा. पर तोगड़िया और उनके समर्थकों का विश्वास है कि इस हिंदूवादी नेता की जान खतरे में हैं. आरोप है कि गुजरात पुलिस भी जांच को ठीक तरीके से अंजाम नहीं दे रही है. तोगड़िया अयोध्या आंदोलन पर एक किताब लिख रहे हैं, चर्चा है कि इस किताब का प्रकाशन रोकने के लिए ही उनपर हमले हो रहे हैं. दूसरा पक्ष ये है कि तोगड़िया को विहिप के अध्यक्ष पद से हटाने का दवाब है, और पद पर बने रहने के लिए तोगड़िया खुद ऐसी घटनाओं को तूल दे रहे हैं. आखिर पूरे देश को अपनी आवाज़ से डराने वाले हिन्दू नेता को अपने ही लोगों से इतना डर क्यों ?

आखिर मोदी और संघ इस किताब से क्यों डर रहा
प्रवीण तोगड़िया के करीबी लोगों को कहना है कि वे अयोध्या आंदोलन पर एक किताब लिख रहे हैं. इस किताब में आंदोलन का सच होगा. कयास है कि किताब से कई हिंदूवादी नेता और हिन्दुवाद का दम भरने वालों की हकीकत सामने आएगी. इस किताब से मोदी और अमित शाह के हिन्दुवाद पर भी प्रहार है. हिन्दू राष्ट्र को सर्वोपरि बताने वाला संघ भी इस किताब से खफा है. इस किताब के पीछे तोगड़िया का मकसद भी मोदी और शाह को 2019 के चुनाव में रोकना है. अयोध्या आंदोलन का पूरा काम तोगड़िया अपने हाथ में दोबारा लेना चाहते हैं. वे बीजेपी के झूठ से इसे बाहर निकालने के लिए किताब को हथियार के तौर पर इस्तेमाल करेंगे.

बीजेपी से अलग हिन्दू मोर्चा की तैयारी
तोगड़िया को विश्व हिन्दू परिषद् से हटाने का भी डर बताया गया. पर वे झुकने नहीं. वे विहिप की राजनीति को कुरबान करने को भी राजी हैं. तोगड़िया बीजेपी और संघ से अलग जो हिन्दू संगठन हैं, उनके साथ मिलकर एक नया मोर्चा बनाने की तैयारी में हैं. इसके लिए वे श्रीराम सेना, बजरंग दल, शिवसेना और कई अन्य संगठनों के सम्पर्क में हैं. मोदी और शाह विरोधी खेमा भी उनके समर्थन में हैं. हिंदूवादी खेमे में दो फाड़ होने से भी संघ घबराया हुआ. पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने इसका नतीजा भी देखा है.

 


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments