सरकारी स्कूलों में जून में होगी शिक्षकों की नियुक्ति


लम्बे समय से रुकी सरकारी स्कूलों में ग्रेड-1 और ग्रेड-2 की नियुक्तियां जून में होगी शुरू
शिवराज सरकार नए सत्र के पहले नियक्ति करने को तत्पर

इंदौर। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में ख शिक्षकों के खाली पदों पर जून में नियुक्तियां होने की संभावना है। स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देश पर एमपी ऑनलाइन ने शिक्षकों की लिखित परीक्षा की मैरिट लिस्ट पहले ही अपलोड कर दी है। 2018 में आयोजित हुई इस परीक्षा में प्रदेश भर से करीब दस लाख से अधिक आवेदक शामिल हुए थे।

मध्यप्रदेश में हाईस्कूल और हायर सेकंडरी स्कूलों में उच्च माध्यमिक शिक्षक वर्ग-1, माध्यमिक शिक्षक वर्ग-2 तथा प्राइमरी शिक्षक वर्ग-1 के हजारों पद खाली पड़े हैं। इनमें से माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षक के पदों पर भर्ती के लिए जारी की गई मैरिट लिस्ट के आधार पर आवेदकों के दस्तावेजों के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इसके बाद शिक्षकों को स्कूलों में नियुक्ति दी जायेगी। मेरिट लिस्ट के अनुसार आवेदकों ने अपने दस्तावेजों के साथ ही जिलों की अपनी पसंद मार्च में ही जमा कर दी है।

2 साल से चल प्रक्रिया, अब लॉकडाउन से रुकी

शिक्षकों के खाली पड़े पदों को भरने के लिए वर्ष 2017-18 में भाजपा की शिवराज सिंह सरकार ने विज्ञापन जारी किया था। इसके बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आ गई थी। कांग्रेस सरकार ने दोनों परीक्षाओं का आयोजन कराया। रिजल्ट और मैरिट लिस्ट जारी होने के बाद पोस्टिंग की बारी आई तो फिर से प्रदेश में भाजपा की सरकार आ गई है। इस बीच करीब दो साल का वक्त गुजर गया है।

20 अप्रैल को होना थी प्रक्रिया
दस्तावेजों के वेरिफिकेशन का काम 20 अप्रैल से शुरू होना था, लेकिन लाॅकडाउन के कारण यह प्रक्रिया नहीं कराई जा सकी। इस बीच एमपी ऑनलाइन की वेबसाइट से चयनित आवेदकों की सूची भी हटा ली गई थी। अब ये सूची फिर से अपलोड कर दी गई है।

लंबे अंतराल के बाद हुई है परीक्षा
प्रदेश में वर्ष 2011-12 में प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (व्यापम) ने संविदा शिक्षक वर्ग-1, वर्ग-2 तथा वर्ग-3 की पात्रता परीक्षा आयोजित की थी। इस भर्ती के बाद करीब 5 साल तक कोई परीक्षा आयोजित नहीं की गई।

शिक्षा विभाग के अफसरों ने कहा जल्द होगी नियुक्ति
शिक्षकों की भर्ती से प्रदेश के सरकारी स्कूलों में खाली पड़े पद भरे जा सकेंगे। नए शिक्षण सत्र में सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को पर्याप्त शिक्षक पहुंचने के कारण और बेहतर शिक्षा मिल सकेगी। लॉकडाउन खत्म होते ही शिक्षकों के दस्तावेजों का वेरिफिकेशन शुरू कर दिया जाएगा। और नियुक्ति पत्र जुलाई तक देने का लक्ष्य है।

 


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments