बीजेपी सांसद की जनता ने की बोलती बंद !


इंदौर, मंदसौर के सांसद सुधीर गुप्ता जब अपने ही संसदीय क्षेत्र के एक गांव में पंहुचे तो भरी चौपाल पर उन्हें गुस्साए कार्यकर्ताओं और गांव वालों ने जमकर खरी-खोटी सुनाई। लोगों के गुस्से के आगे सांसद की बोलती बंद हो गई। सांसद गुप्ता खडे-खडे चुपचाप सुनते रहे। लोगों के आक्रोश के आगे सांसद नतमस्तक दिखाई दिए। उनके साथ पूर्व विधायक ने जब प्रिय सांसद कह कर संबोधित किया तो ग्रामीणों ने ऐतराज जताते हुए साफ कह दिया कि सांसद उनके प्रिय नहीं है। गांव वालों ने यह भी चेताया कि इस बार चुनाव में भारी हार का सामना करना पडेगा।

मंदसौर संसदीय क्षेत्र के सीतामऊ से सटे देवरिया विजय गांव में सांसद सुधीर गुप्ता पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार के साथ पंहुचे थे। इस गांव में पूणे-जयपुर एक्सप्रेस का स्टॉपेज बनाने का श्रेय लेने के लिए सांसद गांव आए थे। जैसे ही सांसद गांव की चौपाल पर पंहुचे और पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार ने सांसद के कशीदे काडना शुरु किये, गांव वाले भडक गए। भीड में खडे एक युवक का गुस्सा फुट पडा और उसने सांसद से चार साल का हिसाब मांगते हुए उसने खरी-खरी सुना डाली। युवक ने सरेआम गांव वालों और सांसद के साथ आई भीड के बीच एक-एक कर कई मुद्दों पर जमकर फटकार लगाई। युवक खुद को बीजेपी का कार्यकर्ता बता रहा है। कार्यकर्ता युवक की फटकार के बाद सांसद की बोलती बंद हो गई। गुप्ता युवक की एक भी बात का जवाब नहीं दे पाए। युवक ने गुस्से में सांसद से सवाल किये- कहा चार साल से कहां गायब थे आप। चुनाव के बाद एक भी दिन गांव आने की फुरसत नहीं मिली आपको। आपने चार साल संसद में उनके लिए क्या किया। बच्चों की क्रिकेट टीम की कीट के लिए बार-बार मैंने आपसे कई बार आग्रह किया लेकिन आप हर बार टालते रहे। आप राम मंदिर का मुद्दा उठाते हो, पद्मावति फिल्म का विरोध करते हो लेकिन आपने हमारे लिए क्या किया। आप अपने चार साल के कार्यकाल की उपलब्धी बताईये। इस बार आप लिख लिजीए कि आपकी जीत यहां से नामुमकीन है। सांसद के साथ खडे पूर्व विधायक पाटीदार ने सांसद को प्रिय सांसद जी कहा तो गांव वालों ने एक स्वर में ऐतराज जताया कहा कि- आपके लिए सासंद प्रिय होंगे हमारे लिए नहीं है।

सांसद 28 अगस्त को गांव गए थे। गुरुवार को ये वीडियो वायरल हुआ। इस पर बात करने के लिए सांसद सुधीर गुप्ता ने इनकार कर दिया।


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments