युवाओं को गौरवशाली इतिहास बताता है आजादी का अमृत महोत्सव : गहलोत

0
280

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित किया जा रहा ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ नई पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम के गौरवशाली इतिहास से अवगत कराने का स्वर्णिम अवसर है।

उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से युवा पीढ़ी को हमारे ज्ञात-अज्ञात सेनानियों तथा महान नेताओं के योगदान को जानने का अवसर मिलेगा और इससे मिलने वाले संस्कार और प्रेरणा उन्हें नया इतिहास लिखने के लिए प्रेरित करेंगे।

गहलोत बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के आयोजनों के लिए गठित राष्ट्रीय समिति की दूसरी बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस आयोजन को ऐतिहासिक बनाने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय के साथ पूर्ण समन्वय रखते हुए अधिकाधिक जन भागीदारी सुनिश्चित कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में अहिंसा एवं शांति निदेशालय की स्थापना की है। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत अगर सभी राज्यों में ऐसी पहल की जाए तो समाज से हिंसा, तनाव, अविश्वास जैसी बुराइयों को दूर कर सामाजिक समरसता एवं सौहार्द की भावना को प्रगाढ़ करने में मदद मिलेगी।

‘राजस्थान में दिया जा रहा खादी को बढ़ावा’ : गहलोत ने बताया कि प्रदेश में खादी को बढ़ावा देने के लिए खादी वस्त्रों पर 50 प्रतिशत की छूट दी गई है।

युवा पीढ़ी एवं आमजन को गांधी दर्शन से अवगत कराने के लिए गांधी म्यूजियम बनाया जा रहा है। ‘अमृत महोत्सव’ के तहत दांडी मार्च का सफल आयोजन किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पावन अवसर को स्थायी रूप से यादगार बनाने के लिए जरूरतमंद वर्गों की सामाजिक सुरक्षा बढ़ाने की दिशा में पहल की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि विकसित राष्ट्रों में सामाजिक सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ऐसे में देश में भी इस क्षेत्र में और कदम उठाए जा सकते हैं।

हर परिवार को मिलेगा मुफ्त इलाज : हलोत ने कहा कि राजस्थान में कोरोना काल में सामाजिक सुरक्षा को लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय किए गए हैं। साथ ही, मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा जैसी महत्वाकांक्षी योजना लागू की गई है, जिसके माध्यम से हर परिवार को 5 लाख रुपये तक का नि:शुल्क उपचार मिल सकेगा। गहलोत ने इस अवसर पर देश की आजादी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, मौलाना आजाद सहित महान नेताओं के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि राजनीति से परे स्वस्थ भावना के साथ इन कार्यक्रमों का आयोजन युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी होगा।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here