कमलनाथ अपने करीबी ‘आर्थिक माफिया’ गिरोह पर कार्रवाई का साहस करेंगे


जीतू सोनी पर बोले कमलनाथ – शिकायत एक महीने पहले मुझे मिली, ब्लैकमेलिंग और कब्ज़े की जानकारी चौकाने वाली, अब कोई माफिया नहीं बचेगा-नाथ

इंदौर । मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को माफिया राज़ से मुक्ति का बड़ा ऐलान किया। पर उन्होंने कहीं भी आर्थिक अपराधियों, चुनावी चंदा और दूसरे चंदे की वसूली करने वाले और ट्रांसफर माफिया पर कुछ नहीं बोला। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार के बनने के बाद से ही मंत्रियों के करीबी कई तरह की वसूली में सक्रीय हैं। क्या मुख्यमंत्री करोडो में खेल रहे इस माफिया पर लगाम लगाने की हिम्मत करेंगे। इनमे उनके करीबी अफसरों से लेकर नेता भी शामिल हैं। बहुतों की जानकारी तो मुख्यमंत्री को खुद भी है. शिकायत के इंतज़ार की भी जरुरत नहीं है।ऐसे माफिया का सबसे बड़ा गढ़ इंदौर है, और उनके बारे में सब जानते हैं।

इंदौर में चल रही कार्रवाई पर पहली बार मुख्यमंत्री कमलनाथ खुलकर बोले। उनके तेवर सख्त दिखे। वे संगठित माफिया और अक्षम अफसरों दोनों पर ही किसी प्रकार की कोताही बरतने को तैयार नहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर के कारोबारी जीतू सोनी की शिकायत मुझे किसी ने एक माह पहले की थी। आरोप था कि जीतू लगातार ब्लैकमेलिंग कर रहा है। मैंने फौरन अफसरों को आदेश दिया कि इस शख्स की पूरी जानकरी दो। जब मेरे पास जानकारी आयी तब मैं हतप्रभ, हैरान था। जीतू ने संगठित माफिया गिरोह चला रखा था। ये शख्स पिछले कई सालों से लोगो की जमीन-जायदाद पर कब्जे और ब्लैकमेलिंग का पूरा गिरोह चला रहा है । इसके बाद मैंने प्रशासन को सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये। इंदौर जैसे पूरे प्रदेश के भूमाफिया और ब्लैकमेलर बख्शे नहीं जाएंगे, ऐसे गिरोह के करीबी और उनको शरण देने वाले अफसरों पर भी सख्त कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को प्रदेश से माफिया राज खत्म करने के लिए चारों बड़े शहरों के कमिश्नर आईजी से स्पष्ट कह दिया है कि माफिया को चिन्हित करके सख्त कार्रवाई करें। पुलिस प्रसाशन को फ्री हैंड है। किसी भी राजनीतिक दल या नेता का करीबी हो यदि वो माफिया है तो उसपर पुलिस वैसे ही कार्रवाई करे।

मैंने अपने रजनीतिक जीवन में किसी अपराधी को संरक्षण नहीं दिया
मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे समूचे सार्वजनिक जीवन में मैंने कभी किसी अपराधी प्रवृति के व्यक्ति को संरक्षण नहीं दिया। मेरे साथ काम करने वाले सभी पुलिस अधिकारी और प्रशासनिक अधिकारी इस बात को बखूबी जानते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा यह सब तुम मेरे लिए नहीं, प्रदेश के भले के लिए कर रहे हो। यह बात तुम्हें हमेशा याद रखना चाहिए। बैठक में प्रमुख सचिव गृह एसएन मिश्रा और एडीजी इंटेलिजेंस डॉक्टर एस डब्ल्यू नकवी भी उपस्थित थे।

 


0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments