भारत-रूस के बीच पुराने संबंधों को कांग्रेस नेता अय्यर ने किया याद

0
82

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने रूस के साथ भारत के वर्षों पुराने संबंध का जिक्र करते हुए कहा कि अमेरिका के साथ तनाव हुए लेकिन मास्को के साथ हमारे संबंध कभी इस तरह से तनाव वाले नहीं थे।

उन्होंने कहा कि जब से भाजपा की केंद्र में सरकार आई है, तब से भारत और रूस के संबंधों में खटास आ गई है। रूस का भारत के साथ वर्षो पुराना संबंध रहा है।

उज्बेकिस्तान में कई लड़कियों के नाम रखे गए थे ‘इंदिरा’ :  अय्यर सोमवार को इंडिया रशिया फ्रेंडशिप सोसायटी द्वारा फिरोज शाह रोड स्थित रशियन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

कांग्रेस नेता ने कहा कि रूस हमारे दुखों में हमेशा खड़ा रहा है। हमें रूस से ऐतिहासिक और बेहद जरूरी संबंधों को मजबूत करना है। उन्होंने कांग्रेस काल में भारत-रूस संबंधों पर विस्तार से चर्चा की।

बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू व इंदिरा गांधी के प्रयासों से रूस के हमारे साथ हर प्रकार के संबंध मजबूत हुए। उन्होंने आगे कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कार्यकाल भारत का करीबी मित्र सोवियत संघ रहा है।

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘इंदिरा तो रूसी नाम बन गया था। कई लड़कियों के नाम इंदिरा रखे गए और उज्बेकिस्तान में तो सबसे अधिक ऐसा देखा गया।’

उन्होंने कहा, ‘स्वतंत्रता के आठ साल बाद वर्ष 1955 से लगातार भारत और रूस के बीच संबंधों में प्रगति होती रही। यह प्रगति विज्ञान, तकनीक, संस्कृति, साहित्य समेत अन्य क्षेत्रों में भी हुई बस एक डिफेंस को छोड़कर। हमने डिफेंस को सीमित रखा लेकिन अन्य क्षेत्रों में संबंधों को बढ़ाया।’

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व सांसद जयप्रकाश अग्रवाल ने कहा कि भारत के विकास में इंदिरा गांधी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। कार्यक्रम में मेजर दलबीर सिंह, आशुतोष निधि, सरगई कोरोलेव, डा. आरबी सिंह डा. भरत झा समेत कई लोग मौजूद रहे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here