essay on child abuse and neglect essay romeo juliet forging a consensus historical essays on toronto sexism essay banned books essay

Friday 14 Aug 2020 / 8:19 AM

दो साल में सातवां राज्य हार गई भाजपा !

  • Bypoliticswala.com
  • Publish Date: 11-02-2020 / 2:30 अपराह्न
  • Update Date: 11-02-2020 / 2:30 अपराह्न

 

दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में हार के साथ ही पिछले दो साल में बीजेपी ने सातवां राज्य गंवाया। लगातार आक्रमकता से चुनाव लड़ रही बीजेपी के लिए बड़े झटके है। वे लगातार सातवा राज्य हार गए। दिल्ली विधानसभा चुनाव के रुझानों में आम आदमी पार्टी की सरकार बनती दिख रही है।

इसके साथ ही भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदों को बड़ा झटका लगा है। भारतीय जनता पार्टी को इस चुनाव में 45 से ज्यादा सीटें जीतने की उम्मीद थी, लेकिन अभी तक आए रुझानों के अनुसार भाजपा मात्र 12 सीटों पर आगे चल रही है।

इसके साथ ही भारतीय जनता पार्टी लगातार सातवें राज्य में सरकार नहीं बनाती दिख रही है। साल 2017 के दिसंबर महीने में बीजेपी अपने सहयोगी दलों के

साथ बेहतर स्थिति में थी। तब भाजपा तथा उसके सहयोगी दलों के पास कुल 19 राज्य थे, लेकिन अभी भाजपा तथा उसके सहयोगी दलों के पास 16 राज्य हैं.

वहीं पिछले एक साल में भाजपा ने मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में सत्ता गंवा दी। इन तीनों राज्यों में कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी को हराकर सरकार बनाई। इसके अलावा आंध्र प्रदेश में भाजपा-टीडीपी गठबंधन की सरकार थी, लेकिन मार्च 2018 में टीडीपी ने भाजपा से गठबंधन तोड़ लिया था। फिर साल 2019 के विधानसभा चुनाव में यहां वाईएसआर कांग्रेस ने सरकार बनाई।

पांचवां राज्य जहां भाजपा ने सत्ता गंवाई वह महाराष्ट्र है। यहां चुनाव के बाद शिवसेना ने बीजेपी का साथ छोड़ दिया कांग्रेस-एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली। झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को झामुमो गठबंधन के खिलाफ अपनी सरकार गंवानी पड़ी। वहीं, दिल्ली ने भी भाजपा को निराश किया है।

साल 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को महज 3 सीटें मिली थीं। इसके बाद भाजपा को इस बार बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी 48 सीट जीतने का अनुमान लगाया था, लेकिन अब भाजपा की दिल्ली की सत्ता में आने की उम्मीद लगभग टूट गई है।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x